The Sound of Music Part-I-Summary in Hindi

By | August 12, 2020

The Sound of Music Song is well explained through the sound of music Introduction, Message, Theme, Title, Characters, the sound of music Summary in English, Summary in Hindi, the sound of music lyrics, the sound of music quiz, Word meanings, Complete lesson in Hindi, Extracts, the sound of music Long answers, Short answers, the sound of music

Very short Answers, the sound of music MCQs and much more for free.

THE SOUND OF MUSIC

BY: Deborah Cowley I

PART-I

SUMMARY in Hindi – The Sound of Music

 SUMMARY IN HINDI

यह अध्याय इवलिन ग्लेनि नाम की एक स्कॉटिश लड़की के जीवन के बारे में वर्णन करता है । जव वह आठ वर्ष की थी तो पहली बार इस बात का आभास हुआ कि उसने किसी स्तर तक अपनी सुनने की शक्ति को खो दिया था । वह स्कूल में अपने मित्रों और अध्यापकों से इस बात को छिपाए रखने में सफल रही । लेकिन जब यह ग्यारह बर्ष की हुई तो उसके बहरेपन का केस पक्का हो गया । अब उसकी सुनाई देने की क्षमता पूर्ण रूप से नष्ट हो चुकी थी । यह सब कुछ एक धीमी प्रक्रिया के अंतर्गत नाडी के नष्ट हो जाने के कारण हुआ था । उसके लिए तो सब कुछ  अंधेरा हो चुका था ।

लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी । वह एक सामान्य जीवन जीने के लिए दृढ निश्चयी थी । उसने संगीत सीखा । एक प्रसिद्ध तबलावादक रोन फोर्बज़ ने संगीत सीखने में उसकी वहुत अधिक मदद की । उसने उसे प्रोत्साहित क्रिया । उसने उसे बताया कि यह कानों के माध्यम से संगीत न सुनकर किसी अन्य माध्यम से संगीन सुनने का प्रयास करे । उसने कठोर परिश्रम किया । और अपने शरीर के अन्य अंगों के माध्यम से संगीत सुनने में सफल रही । उसने आवाजों और स्पदनों  के प्रति अपने शरीर और मन को खोलना शुरु कर दिया ।

इस स्थान से उसने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा । उसने एक युवा आर्केस्टा  के साथ यूनाइटिड किंगडम (इंग्लैंड) का भ्रमण किया ।

16 वर्ष की आयु  में, उसने संगीत को अपना जीवन बनाने का निर्णय ले लिया । उसने संगीत की रॉयल अकैडमी के लिए परीक्षा दी । उसने अकैडमी के आ ज तक के इतिहास में सबसे अधिक अंक प्राप्त किए । उसने संगीत के लगभग 100 वाद्य यंत्रों में विशिष्टता हासिल कर ली ।

वह छोटी-से-छोटी बात को भी सुन और समझ सकती थी । यह बात बिल्कुल असंभव -सी दिखाई जान पड़ती है कि उस जैसी बहरी इतने धारा प्रवाह रूप से चीजों के उत्तर देती है । वह बिना किसी गलती के स्कॉटिश लहजे के साथ बोलती थी । वह कहती है कि उसके शरीर के प्रत्येक अंग के माध्यम से उसके अंदर संगीत का प्रवाह होता है । संगीत उसकी त्वचा, गालों की हड्डियों तथा यहाँ तक कि बालों में से भी झुनझुनाता रहता है । जव यह जायलोफोन  बजाती है तो उसकी उगंलियों  के सिरों के माध्यम से उसके शरीर के अंदर संगीत का प्रवाह होता है । ढोलक के ऊपर झुककर उसकी गूंज  को यह अपने ह्रदय से सुनती है । लकड़ी से बने मंच पर यह संगे पांव  संगीत बजाती है ताकि संगीत उसके पांवों तथा उसकी टांगों के माध्यम से उसके हदय तक पहुंच  सके ।

1991 में उसे रॉयल फिलहारमीनिक सोसायटी के ख्याति प्राप्त ‘सोलोइस्ट आँफ दी ईयर अवार्ड से  सम्मानित किया गया ।

वह अपने आपको एक  बहुत ही मेहनती मानती है । नियमित संगीत संगोष्ठियों में गाने के साथ-साथ वह जेलों तथा अस्पतालों में नि:शुल्क  रूप  से भी गाती है । वह युवा संगीतकारों को प्रशिक्षण देने के लिए भी कक्षाएं लगाने को प्राथमिकता देती है । वह बधिक बच्चों के लिए एक चमकदार प्रेरणापुंज है।

Want to Read More Check Below:-

The Sound of Music Part-I- Introduction

The Sound of Music Part-I- Theme & Title

The Sound of Music Part-I- Important Word-Meanings of difficult words

The Sound of Music Part-I-Message & Characters

The Sound of Music Part-I-Short & Detailed Summary

The Sound of Music Part-I- Passages for Comprehension

The Sound of Music Part-I- Value Points

The Sound of Music Part-I- Important Extra Questions- Very Short Answer Type

The Sound of Music Part-I- Important Extra Questions Short Answer Type

The Sound of Music Part-I- Important Extra Questions Long Answer Type

The Sound of Music Part-I- Quick Review

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.