NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter – 11 सवैये

By | January 19, 2021

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 11 सवैये यहाँ सरल शब्दों में दिया जा रहा है| NCERT Hindi book for class 9 kshitij Solutions के Chapter 11 सवैये को आसानी से समझ में आने के लिए हमने प्रश्नों के उत्तरों को इस प्रकार लिखा है की कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक बात कही जा सके| इस पेज में आपको NCERT solutions for class 9 hindi kshitij

दिया जा रहा है|

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 11 सवैये

raskhan

प्रश्नअभ्यास

1.ब्रजभूमि के प्रति कवि का प्रेम किनकिन रूपों में अभिव्यक्त हुआ है?

उत्तर:- ब्रजभूमि के प्रति कवि के मन में बहुत ही अधिक प्रेम है। उसे उन्होंने कविता में निम्न रूपों में अभिव्यक्त किया है:

1. रसखानअगले जन्म में ब्रज के ग्वाले बनकर गाय चराते हुए अपना जीवन बिताने की बात कहते हैं।

2. उन्हें पशु-पक्षी, यहाँ तक कि पत्थर के रूप में भी ब्रज में रहना स्वीकार है।

3. कवि चाहते हैं कि अगर उन्हें पशु का जन्म मिले, तो वे कान्हा की गायों के बीच रहकर ब्रज में घूमेंगे।

4. अगर वे पक्षी रूप में जन्म लेते हैं, तो वे कदम्ब के पेड़ पर बैठकर श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का आनंद लेंगे।

पक्षी रूप में जन्म लेते हैं, तो वे कदम्ब के पेड़ पर बैठकर श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का आनंद लेंगे

5. अगर उन्हें अगले जन्म में पत्थर बनना पड़े, तो वो गोवर्धन पर्वत का पत्थर बनना चाहते हैं, जिसे साक्षात् श्रीकृष्ण ने अपनी उंगली पर उठाया था।

इस प्रकार कवि हर रूप में, सभी तरह से ब्रज में ही रहना चाहते हैं। वह हर जन्म में ब्रजभूमि पर ही पैदा होना चाहता है व अपना पूरा जीवन उस पर न्योछावर करना चाहता है।

2. कवि का ब्रज के वन, बाग और तालाब को निहारने के पीछे क्या कारण है?

उत्तर:- कवि श्रीकृष्ण और उनसे जुड़ी हर वस्तु से अगाध प्यार करता है। उनसे कवि कृष्ण का जुड़ाव तथा लगाव महसूस करता है। इसलिए कवि इन वनों, बागों और तालाबों को निहारते रहना चाहता है क्योंकि वह उनमें कृष्ण का अंश महसूस करता है। उन्होंने वहां अपनी बांसुरी के मधुर स्वर से सबको मनमोहक अनुभव करवाया था। कवि को इसी कारण वह स्थान दिव्य लगता है और वे उस स्थान पर इन सबको महसूस करते हैं, इसलिए वे कृष्ण से जुड़ी इन सब चीजों को व ब्रजभूमि को निहारते हैं।

कवि का ब्रज के वन, बाग और तालाब

3. एक लकुटी और कामरिया पर कवि सब कुछ न्यौछावर करने को क्यों तैयार है?

उत्तर:- श्री कृष्ण रसखान जी के आराध्य देव हैं। उनके द्वारा डाले गए कंबल और पकड़ी हुई लाठी उनके लिए बहुत मूल्यवान है। श्री कृष्ण लाठी व कंबल डाले हुए ग्वाले के रुप में सुशोभित हो रहे हैं। जो कि संसार के समस्त सुखों को मात देने वाला है और उन्हें इस रुप में देखकर वह अपना सब कुछ न्योछावर करने को तैयार हैं। भगवान के द्वारा धारण की गई वस्तुओं का मूल्य भक्त के लिए परम सुखकारी होता है।

4. सखी ने गोपी से कृष्ण का कैसा रूप धारण करने का आग्रह किया था? अपने शब्दों में वर्णन कीजिए।

उत्तर:- कविता के अनुसार सखी गोपी से आग्रह करती है कि वह उनके प्रिय कान्हा की तरह ही अपने सर पर मोर के पंखों का मुकुट पहने, गले में पुष्पों की माला पहने। श्रीकृष्ण की तरह ही पीले कपड़े धारण करे और हाथ में लकड़ी लेकर जंगल में गायों को चराने जाए। इस तरह से सखी अपने आराध्य की एक छवि देखने के लिए गोपी को उन्हीं की तरह वेशभूषा धारण करने करने का आग्रह किया।

5. आपके विचार से कवि पशु, पक्षी और पहाड़ के रूप में श्री कृष्ण का सानिध्य क्यों प्राप्त करना चाहता है?

उत्तर:- मेरे विचार से रसखान कृष्ण के अनन्य भक्त है | और एक भक्त के लिए संसार में सबसे महत्वपूर्ण होते हैं उसके प्रभु और उनकी भक्ति। रसखान के लिए भी कृष्ण का सानिध्य प्राप्त करना बड़े सौभाग्य की बात है, चाहे वह उन्हें किसी भी रूप में मिले।

पशु, पक्षी और पहाड़

इस पेज में आपको NCERT solutions for class 9 hindi kshitij दिया जा रहा है| हिंदी क्षितिज के दो भाग हैं | Hindi Kshitij क्षितिज भाग 1 सीबीएसई बोर्ड द्वारा class 9th के लिए निर्धारित किया गया है | इस पेज की खासियत ये है कि आप यहाँ पर ncert solutions for class 9 hindi kshitij pdf download भी कर सकते हैं| we expect that the given class 9 hindi kshitij solution will be immensely useful to you.

6. चौथे सवैये के अनुसार गोपियां अपने आप को क्यों विवश पाती है?

उत्तर: श्री कृष्ण जी की मुरली की धुन व मुस्कान उनको लोक-लाज त्यागने पर विवश कर देती है।वे उसमें इतना मग्न हो जाती है कि सारी सुध-बुध खोकर बस उस का आनंद लेने लग जाती है।वो अपना मान-सम्मान त्याग कर बस श्री कृष्ण की बाँसुरी की धुन ही सुनती रहती हैं व उनकी मुस्कान पर अपना सब कुछ न्योछावर कर देती हैं। अपनी इसी विविधता पर वह सब परेशान हैं।

7. भाव स्पष्ट कीजिए

(). कोटिक ए कलधौत के धाम करील के कुंजन ऊपर वारौं।

(). माइ री वा मुख की मुस्कानि सम्हारी न जैहै, न जैहै, न जैहै।

उत्तर:- (). इस पंक्ति मे कवि ने कहा है किब्रज की काँटेदार झाड़ियों व कुंजन पर सोने के महलों का सुख न्योछावर कर देना चाहते हैं। अर्थात् जो सुख ब्रज की प्राकृतिक सौंदर्य को निहारने में है वह सुख सांसारिक वस्तुओं को निहारने में दूर-दूर तक नहीं है।

(). इस कथन में गोपियां अपनी व्यथा बताती है कि वे सब कृष्ण से प्रेम करती है और जब कृष्ण बांसुरी बजाते हैं तो उन सब के मुख पर एक मधुर मुस्कान आ जाती है, जिससे लोगों को उनके प्रेम का पता चल सकता है। लेकिन फिर भी वे विवश है क्योंकि वे कृष्ण की बांसुरी से इतना मोहित हो जाती है कि खुद को रोक ही नहीं पाती।

8. ‘कालिंदी कूल कदंब की डारनमें कौनसा अलंकार है?

उत्तर:- प्रस्तुत पंक्ति में अनुप्रास अलंकार है, क्योंकि इसमें ‘क’ वर्ण की पुनरावृत्ति हुई है।

9. काव्यसौंदर्य स्पष्ट कीजिए

या मुरली मुरलीधर की अधरान धरी अधरा ने धरौंगी।

उत्तर:- काव्य सौंदर्य

1.यमक अलंकार का प्रयोग हुआ है।

2. अनुप्रास अलंकार का प्रयोग किया गया है।

3. ब्रजभाषा में लिखा गया है।

रचना और अभिव्यक्ति

10. योगा शिक्षक की सहायता से कक्षा में आदर्श वाचन कीजिए साथ ही किन्हीं दो सहयोग को कंठस्थ कीजिए

उत्तर:- विद्यार्थी स्वयं करें |

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 11 सवैये Download in PDF

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.