The Proposal Summary in Hindi | Must Read

The Proposal Summary in Hindi

Here we are providing The Proposal Summary in Hindi was written by subject expert teachers. In this page you can find The Proposal Story in Hindi will make your practice complete.

The Proposal Summary in Hindi

जब नाटक शुरु होता है तो हम देखते हैं कि लोमोव शुबुकोव के घर उससे मिलने के लिए आता है । शुबुकोव जोकि एक किसान का स्वागत करता है । वह उससे पूछता है कि वह औपचारिक पोशाक क्यों पहने हुए है, और क्या वह किसी विशेष कार्य के लिए जा रहा है । लोमोव उतर देता है कि वह कहीं और नहीं जा रहा है, वह तो उससे ही मिलने आया है ।लोमोव उत्तेजित और व्याकुल नज़र आता है । वह अपने-आपको शांत करता है और अपने आने का उदेश्य बताना आरंभ करता है । वह उसे बताता है कि वह पहले भी कई बार सहायता के लिए उसके पास आया है और उसने उसकी सहायता नहीं की है । अपना उदेश्य बताने से पहले ही लोमोव फिर से उत्तेजितहो जाता है । शुबुकोव मन में सोचता है कि शायद वह कर्ज लेने आया है । वह निश्चय
कर लेता है कि वह उसे किसी प्रकार की सहायता नहीं देगा ।
लोमोव एक बार फिर शुबुकोव को अपने जाने के उद्देश्य के बारे में बताना चाहता है। लेकिन वह दोबारा उत्तेजित होजाता है । वह सहायता के बारे में बोतने की अपेक्षा अपने बारे में कुछ बढ़-चढ़कर बात करता है । शुबुकोवउसे इधर- उधर की बात न करके उसके आने के उद्देश्य की बात करने के लिए कहता है । लोमोव शक्ति बटोर लेता है और उसे बताता है कि वह उसकी बेटी नाताल्या का हाथ विवाह के लिए माँगने आया है । यह सुनकर शुबुकोव बहुत प्रसन्नहोता है । वह नाताल्या को बुलाने के लिए अंदर जाने लगता है । परंतु उससे पहले ही लोमोव उससे पूछता है कि क्या नाताल्या इसकी स्वीकृति देगी । शुबुकोव उसे उत्तर देता है कि वह उस जैसे अच्छे लड़के को तुरंत स्वीकार कर लेगी ।
लोमोव कमरे में अकेला रह जाता है ।उसका शरीर उत्तेजना से कांप रहा हैं । बह अपनेवर्तमान जीवन के बारे में सोचना शुरू कर देता है । वह अपनी शादी का मामला तुरंत तय कर देना चाहता हैं । वह सोचता है कि उसे अब ज्यादा देर नहीं करनी चाहिए । वह नाताल्या के बारे में सोचता है । वह एक कुशल गृहिणी हैं । वह पढी-लिखी हे ओर देखने में भी की बुरी नहीं है । इस आयु में उसे इससे अच्छी लड़की की आशा भी नहीं करनी चाहिए । वह पैंतीस वर्ष का चुका है । उसे अब एक नियमित जीवन बिताना चाहिए । वह दिल की धड़कन ,बौखलाहट और अनिद्रा जैसी भयकर बीमारियों से भी पीड़ित है । इन कारणों से उसे अब विवाह कर लेना चाहिए ।
इतने में नाताल्या अंदर आती है । उसके पितानेउसे नहीं बताया कि लोमोव उससे मिलने आया है उसने तो उसे यही बताया था कि कोई ग्राहक आया है । फिरभी वह लोमोव का स्वागत करती है । इससे पहले कि लोमोव कुछ बात करे , वह बात करना आरंभ कर देती है । तब वह उसकी सुंदर पोशाक की ओर संकेत करती है , वह फिर उत्तेजित हो उठता है ।इससे पहले कि वह उससे शादी के बारे में पूछे , वह काँपने लगता है । नाताल्या उसे प्रोत्साहित करती है और वह ठीक हो जाता है । वह कहता है कि उसे संक्षेप मेंसब कुछ बता देगा । फिरभी वह स्पष्ट रूप से बात नहीं कर पाता । वह वह इधर – उधर की बातें करने लगता है ।
वह उसे कहता हैं कि पिछले कई दशकों से उनके परिवारों के संबंध बहुत अच्छे हैं उनकी संपत्तियाँ भी साथ-साथ हैं। उनकीचरागाहैं उनके भोज-पत्र के वनों को छूतीहै । नाताल्या इस बात का विरोध करती है । वह कहती है कि चरागाहें उनकी हैं । दोनों ही उन पर अपना-अपना अधिकार जमाते हैं । इन चरागाहों की मलकियत के प्रश्न पर दोनों में झगड़ा आरंभ हो जाता है ।दोनों बहुत जोर से एक-दूसरे पर चिल्लाते हैं वे किसी भी प्रकार से शांत नहीं होते ।
शुबुकोव अंदर आता हैं। और उन्हें झगड़ते हुए देखता है । वह बड़ा हैरान होता हैं । परंतु जब उसे पता चलता है कि वे दोनों चरागाहों के स्वामित्वपर झगड़ रहें तो वह भी क्रोधित हो उठता है । उन्हें शांत करने की अपेक्षा वह भी लड़ने लग जाता है । वह चरागाहों के स्वामित्व का दावा करता हिया । वह न केवल लोमोव उसके परिवार के सदस्यों के लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग करता है । लोमोव के दिल की धड़कन बढ़ जाती है और यह अत्यधिक अशांत हो उठता है। वह कमरे से बाहर चला जाता है ।
शुबुकोव कहता है कि इस मूर्ख लोमोव को उसकी बेटी के सामने शादी का प्रस्ताव रखने का साहस कैसे हुआ ? जैसे ही नाताल्या यह बात सुनती है, उसे बड़ा गहरा सदमा पहुँचता है। वह मुर्छित –सी हो जाती है । वह रोने लगती हैँ और अपने पिता से कहती है कि वह लोमोव को वापस लाए। शुबुकोव बहुत दुख अनुभव करता है । वह कहता है कि एक लड़की का बाप होना सबसे बड़ा दुर्भाग्य है । वह लोमोव को बुलाने बाहर चला जाता हैं ।
लोगोव दोबारा कमरे में प्रवेश करता है । नाताल्यासोचती है क्रि इस बार वह उसे फिर से नाराज नहीं करेगी । वह उसे प्रसन्न करने का प्रयत्न करती है । वह कहती है कि ये चरागाहें उसकी हैं । वह इस विषय को बदलना चाहती है ताकि वह (लोमोव) उसके सामने शादी का प्रस्ताव रखे । परंतु यह अब भी स्वस्थ नहीं है । उसे अब भी घबराहट अनुभव हो रही है । वह मतलब की बात नहीं करता ।
। लोमोव अपने कुत्ते गेस, जिसे उसने 125 रुबल में खरीदा है, की तारीफ करना आरंभ करता है । परंतु नाताल्या कहती है कि उसका कुत्ता स्कूईज़र, जिसे उसने 85 रूबल में खरीदा है, लोमोव के कुत्ते गेस से अच्छा हे । दोनों ही अपने-अपने कुत्तों के गुणों का वर्णन करने लगते हैं । अब वे इस विषय पर झगड़ना शुरु कर देते है । वे फिर एकदूसरे पर चीखना-चिल्लाना शुरु कर देते हैं इस बीच में शुबुकोव आ जाता है । उनके झगड़े को समाप्त करने की अपेक्षा वह भी झगड़ने लगता है । इस मतभेद में लोमोव की तबीयत हो जाती है और वह बेहोश होकर कुर्सी पर गिर जाता है । दोनों पिता-पुत्र समझते हैं कि वह मर गया है । नाताल्या विलाप करने जाती है क्योंकि उसके विवाह का अवसर जाता रहा है ।
कुछ देर के पश्चात लोमोव होश में आता है। शुबुकोव लोमोव से कहता है कि यह (नाताल्या) बिवाह के लिएतैयार है इसलिए वह उससे शादी कर ले । नाताल्या भी अपनी सहमति प्रकट करती है । शुबुक्रोवएक पल भी नहीं गँवाता और उन दोनों के हाथ मिला देता है । वहउनदोनोंकोएक-दूसरेका चुम्बन लेने के लिएकहता है ।परंतु शीघ्र ही वे दोनों फिर झगड़ने लग जाते है । वे अपने –अपने कुत्तों की विशेषताओं पर वाद-विवाद करने लग जाते हैं । शुबुकोव उन्हें फिर शांत करने का प्रयत्न करता है और इसके साथ ही नाटक समाप्त हो जाता है ।

Want to Read More Check Below:-

The Proposal- Passages for Comprehension

The Proposal- Important Extra Questions- Very Short Answer Type

The Proposal- Important Extra Questions- Short Answer Type

Need our help or have some question