Albert Einstein at School- Summary in Hindi – Full Text

By | July 3, 2020

Albert Einstein at School is a great chapter which includes the joy. It is well explained by Edumantra including Introduction, Message, Theme, Title, Characters, Summary in English, Summary in Hindi, Word meanings, Complete lesson in Hindi, Extracts, Long answers, Short answers, Very short Answers, MCQs and much more.

Albert Einstein at School

                                             By- Patrick Pringle

Summary in Hindi/ Albert Einstein at School

Summary in Hindi

आइंस्टीन एक जर्मन स्कूल में पढ़ रहा था जो म्यूनिख में स्थित था I इसके इतिहास शिक्षक मि.ब्रान ने पूछा नेपोलियन ने किस सन में वाटरलू में प्रशिया द्वारा पराजय का मुँह देखा था I बालक ने दो टूक शब्दों में स्वीकार कर लिया कि वह सन नहीं बता सकता, वह शायद भूल गया था शिक्षक ने जानना चाहा कि क्या तुमने कभी कोई तथ्य याद रखने का प्रयास किया है ? आइंस्टीन ने पुनः ईमानदारी से मान लिया कि उसे एक तारीखें या सन याद करने में रुचि नहीं हैं I उसने तर्क दिया कि ये तत्व तो किसी भी पुस्तक में मिल जाते हैं I उन्हें रटने में कोई बुद्धिमत्ता नहीं है और शिक्षा का यह उद्देश्य भी नहीं है I  शिक्षक ने अलबर्ट को कहा कि अच्छा तुम्हीं शिक्षा के लक्ष्य के बारे में बताओ I

अलबर्ट ने कक्षा को बताया मेरी राय में तथ्यों तथा तारीखों को याद करने से अधिक महत्वपूर्ण है विचारों का अध्ययन I मैं तो यह जानना चाहूँगा कि सैनिक क्यों एक दूसरे से जान के दुश्मन बन गए I शिक्षक ने चीख कर कहा कि तुम तो स्कूल के लिए कलंक या अपमान हो I तुम तो अपने पिता से कहो कि तुम्हें इस स्कूल से निकाल ले जाएँ I

अल्बर्ट बहुत दुखी हुआ I सारा दिन बुरा गुजरा I उसकी इच्छा नहीं हुई कि वह अगले दिन उसे स्कूल में जाए I पर उसके पिता तो उसे यहाँ से तब तक नहीं निकालेंगे जब तक वह डिप्लोमा हासिल नहीं कर लेता I निर्धन होने के कारण वह म्यूनिख के एक पिछड़े निर्धनों की बस्ती में एक कमरा किराए पर लेकर रह रहा था I उसे इस बस्ती से भी नफरत थी क्योंकि यहाँ का वातावरण गंदी बस्तियों वाला था I उसकी मकान मालकिन अपने बच्चों की रोज ही पिटाई किया करती थी,तथा सप्ताहांत में उसकी अपनी पिटाई नशे में धुत पति द्वारा होती थी I

अलबर्ट को सौभाग्य से एक अच्छा मित्र यूरी मिल गया था I उसने यूरी से अपने स्कूल की तथा निवास स्थान की समस्या की चर्चा की I उसने बताया कि मैं स्कूल डिप्लोमा के लिए होने वाली परीक्षा पास नहीं कर पाऊँगा I उसने इस समस्या का जिक्र अपनी चचेरी बहन ऐल्सा से भी किया जब वह म्यूनिख आई I बहन ने समझाया कि हिम्मत मत हारो तथा परीक्षा में जो कुछ तुम्हें आता हो वही लिख देना I पर अलबर्ट की समस्या तो यह थी कि वह कुछ भी तथ्य रट नहीं सकता था I बहन ने पूछा कि तुम्हारे बगल में दबी पुस्तक कौन-सी है I वह तो भू-विज्ञान विषय की थी जो उसके पाठ्यक्रम में शामिल नहीं था I अल्बर्ट का दूसरा शौक था – संगीत I वह नियमित रूप से वायलिन बजाया रहता था जब तक कि मकान मालकिन उसे शोर बन्द करने का आदेश नहीं देती थी I वह तो स्वयं ही बच्चों के शोर शराबे से तंग रहती थी I

अलबर्ट ने छह माह पश्चात यूरी को बोला कि वह म्यूनिख छोड़ देना चाहता है I अपने पिता का पैसा बर्बाद करना नहीं चाहता था I उसकी इच्छा थी कि इटली के मिलान नामक नगर में पढ़ाई करे I उसने यूरी से अनुरोध किया कि किसी डॉक्टर मित्र से मुझे एक सर्टिफिकेट दिलवा दे कि मुझे स्नायु संबंधी बीमारी है और मुझे इस नगर से बाहर चला जाना चाहिए यूरीन अपने साथी डा. अर्नेस्ट वील से बात की जो स्नायु विशेषज्ञ नहीं था I फिर भी उसने अलबर्ट से कहा कि डॉक्टर से वह सब कुछ सच-सच बोलना I यह प्रमाण पत्र देने को राजी हो गया कि अल्बर्ट को स्नायु संबंधी तकलीफ है और उसे छह माह तक स्कूल से अवकाश दिया जाना जरूरी है I डॉक्टर ने सेवा के लिए कोई फीस भी नहीं ली I छह माह तो काफी लंबा समय था I अलबर्ट को स्कूल छोड़ने की जरूरत न थी, और जरूरत हुई तो वह पुनः आकर अपनी डिप्लोमा की पढ़ाई शुरू कर सकता था I
अलबर्ट ने सोचा कि यह मेडिकल सर्टिफिकेट लेकर मुख्य शिक्षक के पास अगले दिन जाएगा I पर यूरी ने   सलाह दी कि पहले अपने गणित शिक्षक मि. कोच से एक प्रमाण पत्र ले लेना I मि. कोच भी अलबर्ट की इस बात से सहमत थे कि बालक अपना समय म्यूनिख की एक कक्षा में व्यर्थ नष्ट कर रहा है क्योंकि उसकी जानकारी तो उसके शिक्षक से भी बेहतर है I उन्होंने प्रमाण पत्र दे दिया I अल्बर्ट अब उच्च स्तरीय गणित का अध्ययन करने हेतु किसी कॉलेज में जा सकता था I

मुख्याध्यापक ने अलबर्ट को बुला भेजा तथा बोला कि तुम्हारे लिए बेहतर होगा कि स्कूल से निकल जाओ I यह तो एक प्रकार का निष्कासन था I दूसरा विकल्प यह था कि अलबर्ट स्वेच्छापूर्वक स्कूल छोड़कर चला जाए I उन्होंने कहा कि तुम पढ़ना ही नहीं चाहते, और हमेशा विद्रोह करते रहते हो अल्बर्ट बोला मैं तो वैसे ही स्कूल छोड़ कर जाने वाला था I वह ऑफिस से निकला तथा उस स्कूल को त्याग आया जहाँ उसने पाँच दुखदाई वर्ष बिताए थे यूरी ने उसे शुभेच्छाओं के साथ अलविदा बोला I उसे आशा थी अलबर्ट मिलान में खुश रहेगा I

Want to Read More Check Below:-

Albert Einstein at School- Introduction

Albert Einstein at School- Important Word-Meanings of difficult words

Albert Einstein at School- Short & Detailed Summary

Albert Einstein at School- Important Extra Questions Short Answer Type

Albert Einstein at School- Important Extra Questions Long Answer Type

Albert Einstein at School- Important Extra Questions Value-Based Answer Type

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.