NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter – 2 ल्हासा की ओर

By | January 18, 2021

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 2 ल्हासा की ओर यहाँ सरल शब्दों में दिया जा रहा है| NCERT Hindi book for class 9 kshitij Solutions के Chapter 2 ल्हासा की ओर  को आसानी से समझ में आने के लिए हमने प्रश्नों के उत्तरों को इस प्रकार लिखा है की कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक बात कही जा सके| इस पेज में आपको NCERT solutions for class 9 hindi kshitij

दिया जा रहा है|

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 2 ल्हासा की ओर

Rahul Sankrityayan

प्रश्न अभ्यास

1.थोड़्ला के पहले के आखिरी गांव पहुंचने पर भिखमंगे के वेश में होने के बावजूद लेखक को ठहरने के लिए उचित स्थान मिला जबकि दूसरी यात्रा के समय वह भद्र वेश भी उन्हें उचित स्थान नहीं दिला सका। क्यों?

उत्तर:-इसका मुख्य कारण था – संबंधों का महत्व। तिब्बत में इस मार्ग पर यात्रियों के लिए एक-जैसी व्यवस्थाएँ नहीं थीं। इसलिए वहाँ जान-पहचान के आधार पर ठहरने का उचित स्थान मिल जाता था। पहली बार लेखक के साथ बौद्ध भिक्षु सुमति थे। सुमति की वहाँ जान-पहचान थी। पर पाँच साल बाद बहुत कुछ बदल गया था। भद्र वेश में होने पर भी उन्हें उचित स्थान नहीं मिला था। उन्हें बस्ती के सबसे गरीब झोपड़ी में रुकना पड़ा। यह सब उस समय के लोगों की मनोवृत्ति में बदलाव के कारण ही हुआ होगा। वहाँ के लोग शाम होते हीं छंङ पीकर होश खो देते थे और सुमति भी साथ नहीं थे|

तिब्बत में इस मार्ग पर यात्रियों के लिए

2. उस समय के तिब्बत में हथियार का कानून न रहने के कारण यात्रियों को किस प्रकार का भय बना रहता था?

उत्तर:- उस समय तिब्बत के पहाड़ों की यात्रा सुरक्षित नहीं थी| डाकूओं का भय रहता था। ऐसी जगहों पर डाकू पहले आदमी को मारते थे और फ़िर लूटपाट करते थे। सरकार, खुफिया-विभाग और पुलिस को भी इसकी कोई परवाह नहीं थी इसलिए इस पर इतना खर्च नहीं करते थे। अपनी सुरक्षा व हथियार का कानून रहने के कारण वहां लोग लाठी की तरह बंदूक व पिस्तौल रखते थे। इन सब कारणों की वजह से वहां यात्रियों को जान-माल का भय बना रहता था।

3. लेखक लड़्कोर के मार्ग में अपने साथियों से किस कारण बिछड़ गया?

उत्तर:- लड़्कोर के मार्ग में उतराई के समय लेखक अपने साथियों से दो कारणों की वजह से पिछड़ गए।उनका घोड़ा बहुत सुस्त था। इस वजह से लेखक अपने साथियों से बिछड़ गया और अकेले में रास्ता भूल गया।और दूसरा वे रास्ता भटककर एक-डेढ़ मील ग़लत रास्ते पर चले गए थे। उन्हें वहाँ से वापस आना पड़ा।

4. लेखक ने शेकर विहार में सुमति को उनके यजमानों के पास जाने से रोका, परंतु दूसरी बार रोकने का प्रयास क्यों नहीं किया?

उत्तर:- अकेले होने के डर से लेखक ने सुमति को शेकर बिहार के यजमानों के पास जाने से रोका। परंतु दूसरी बार वह उसे जाने से नहीं रोका क्योंकि जिस मंदिर में वे बैठे थे वहां बुद्धवचन अनुवाद की हस्तलिखित 103 पोथियां थी और लेखक अध्ययन करके उनके विषय में जानना चाहता था अर्थात लेखक वहां की संस्कृति सभ्यता का अध्ययन करना चाहता था इसलिए उन्होंने उसे जाने से नहीं होगा।

5. अपनी यात्रा के दौरान लेखक को किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा?

उत्तर:- अपनी यात्रा के दौरान लेखक को निम्नलिखित  कठिनाइयों का सामना करना पड़ा|

उस समय भारतीय यात्रियों को तिब्बत यात्रा की अनुमति नहीं थी |इसलिए उन्हें भिखमंगे के रूप में यात्रा करनी पड़ी |

उन्हें अपनी यात्रा के दौरान से खतरनाक डांडा थोंड्ला पार करना पड़ा, जहां ऊंचाई के साथ-साथ नदियों के मोड़ों और पहाड़ों के कोनो की वजह से डाकूओं का खतरा रहता था।

उतराई के समय लेखक का घोड़ा सुस्त होने व रास्ता भटकने के कारण वे अपने साथियों से भी बिछड़ गए थे, जिसकी वजह से उन्हें अपने मित्र सुमिति का गुस्सा झेलना पड़ा।

लेखक व उनके साथियों को तपती धूप में भी चलना पड़ा वह लेखक को अपने उसी भीख मंगे वेश में वहां की शेकर की खेती के मुखिया भिक्षु,  जोकि बड़े ही विनम्र व भद्र पुरुष थे, से मिलना पड़ा।

यात्रा के दौरान लेखक

6. प्रस्तुत यात्रावृतांत के आधार पर बताइए कि उस समय का तिब्बती समाज कैसा था?

उत्तर:- प्रस्तुत यात्रा-वृत्तान्त के आधार पर उस समय का तिब्बती समाज के बारे में पता चलता है कि तिब्बत के समाज में छुआछूत, जाति-पाँति आदि कुप्रथाएँ नहीं थी। सारे प्रबंध की देखभाल कोई भिक्षु करता था। वह भिक्षु जागीर के लोगों में राजा के समान सम्मान पाता था।उस समय तिब्बती की औरतें परदा नहीं करती थीं।उस समय तिब्बती की जमीन जागीरदारों में बँटी थी जिसका ज्यादातर हिस्सा मठों के हाथ में होता था।।

7. ‘मैं अब पुस्तकों के भीतर था।नीचे दिए गए विकल्पों में से कौन सा इस वाक्य का अर्थ बतलाता है

(). लेखक पुस्तकें पढ़ने में रम़ गया।

(). लेखक पुस्तकों की शेल्फ़ के भीतर चला गया।

(). लेखक के चारों ओर पुस्तकें ही थीं।

(). पुस्तक में लेखक का परिचय और चित्र छपा था।

उत्तर:- (क)लेखक पुस्तकें पढ़ने में रम़ गया।

इस पेज में आपको NCERT solutions for class 9 hindi kshitij दिया जा रहा है| हिंदी क्षितिज के दो भाग हैं | Hindi Kshitij क्षितिज भाग 1 सीबीएसई बोर्ड द्वारा class 9th के लिए निर्धारित किया गया है | इस पेज की खासियत ये है कि आप यहाँ पर ncert solutions for class 9 hindi kshitij pdf download भी कर सकते हैं| we expect that the given class 9 hindi kshitij solution will be immensely useful to you.

रचना और अभिव्यक्ति

8. सुमति के यजमान और अन्य परिचित लोग लगभग हर गांव में मिले। इस आधार पर आप सुमति के व्यक्तित्व की किन विशेषताओं का चित्रण कर सकते हैं?

उत्तर:- इससे यह पता चलता है कि सुमति बहुत ही मिलनसार एवं हँसमुख व्यक्ति थे । सुमति उनके यहाँ धर्मगुरु के रूप में सम्मानित होते थे । उनको घूमना-फिरना बहुत पसंद था और वे नई जगह जाकर लोगों से अच्छे संबंध बना लेते थे; इसलिए उनके हर जगह परिचित लोग मिल जाते थे, जो उनका बहुत सम्मान करते थे।

9. हालांकि उस वक्त मेरा देश ऐसा नहीं था कि उन्हें कुछ भी ख्याल करना चाहिए था उक्त कथन के अनुसार हमारे आचार व्यवहार के तरीके वेशभूषा के आधार पर तय होते हैं आपकी समझ से यह उचित है अथवा अनुचित विचार व्यक्त करें

उत्तर:- सामान्यतया लोगों में एक धारणा बन गई है कि पहली बार मिलने वाले व्यक्ति का आंकलन उसकी वेशभूषा देखकर किया जाता है। हम अच्छा पहनावा देखकर किसी को अपनाते हैं तो गंदे कपड़े देखकर उसे दुत्कारते हैं। लेखक भिखमंगों के वेश में यात्रा कर रहा था। इसलिए उसे यह अपेक्षा नहीं थी कि शेकर विहार का भिक्षु उसे सम्मानपूर्वक अपनाएगा।मेरे विचार से वेशभूषा देखकर व्यवहार करना पूरी तरह ठीक नहीं है। अनेक संत-महात्मा और भिक्षु साधारण वस्त्र पहनते हैं किंतु वे उच्च चरित्र के इनसान होते हैं, पूज्य होते हैं। हम पर पहला प्रभाव वेशभूषा के कारण ही पड़ता है। उसी के आधार पर हम भले-बुरे की पहचान करते हैं। परन्तु अच्छी वेशभूषा में कुतिस्त विचारों वाले लोग भी हो सकते हैं। गरीब व्यक्ति भी चरित्र में श्रेष्ठ हो सकता है, वेशभूषा सब कुछ नहीं है। कीचड़ में खिलने पर भी कमल अपनी सुंदरता बनाए रखता है।

10. यात्रावृतांत के आधार पर तिब्बत की भौगोलिक स्थिति का शब्दचित्रण प्रस्तुत करें। वहां की स्थिति आपके राज्य/शहर से किस प्रकार भिन्न है?

उत्तर:- तिब्बत की भौगोलिक स्थिति बहुत ही दुर्गम है। वहां के रास्ते बहुत ही खतरनाक है। तिब्बत 16000 से 17000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। तिब्बत का सबसे खतरनाक स्थान डाँडा थोड्ला है। डाँडा थोड्ला  के आसपास दूर-दूर तक किसी गांव का नामोनिशान नहीं है। यहां कभी बर्फबारी होने लगती है तो कभी तेज गर्मी।

तिब्बत की भौगोलिक स्थिति

मैं आजमगढ़ का रहने वाला हूं मेरे यहां की भौगोलिक स्थिति और तिब्बत की भौगोलिक स्थिति में जमीन आसमान का अंतर है। पहला अंतर यह है की मेरा क्षेत्र मैदानी है। मेरे क्षेत्र में ऋतुओं के आने-जाने का एक निश्चित समय है। एक निश्चित समय पर गर्मी पड़ती है, एक निश्चित समय पर वर्षा होती है और एक निश्चित समय पर ठंडक पड़ती है। जिससे लोगों को मौसम की कठिनाइयों से लड़ने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है।

11. आपने भी किसी स्थान की यात्रा अवश्य की होगी? यात्रा के दौरान हुए अनुभवों को लिखकर प्रस्तुत करें।

उत्तर:- विद्यार्थी स्वयं करें |

12. यात्रावृतांत गद्य साहित्य की एक विधा है। आपकी इस पाठ्यपुस्तक में कौनकौन सी विधाएं हैं? प्रस्तुत विधा उनसे किस मायनों में अलग है?

उत्तर:- दो बैलों की कथा:-  कहानी

ल्हासा की ओर:-  यात्रा वृतांत

उपभोक्तावाद की संस्कृति:-  निबंध

सांवले सपनों की याद:- डायरी लेखन

नाना साहब की पुत्री देवी मैना को भस्म कर दिया गया:- रिपोर्ताज

प्रेमचंद के फटे जूते:- व्यंग्य

मेरे बचपन के दिन:- संस्मरण

एक कुत्ता और एक मैना:- निबंध

प्रस्तुत पाठ साहित्य की विधा यात्रा-वृतांत में लिखा गया है, जिसमें लेखक ने उन सभी चीजों का वर्णन किया है जो उन्होंने अपनी यात्रा के दौरान देखी व उन सब लोगों के बारे में बताया है जिनसे वे अपनी यात्रा के दौरान मिले। यह एक तरह से अपनी यात्रा के अनुभवों का वर्णन करने जैसा ही है।

भाषा अध्ययन

13. किसी भी बात को अनेक प्रकार से कहा जा सकता है, जैसे

सुबह होने से पहले हम गांव में थे।

पौ फटने वाली थी कि हम गांव में थे।

तारों की छांव रहतेरहते हम गांव पहुंच गए।

नीचे दिए गए वाक्य को अलगअलग तरीके से लिखिए

जान नहीं पड़ता था कि घोड़ा आगे जा रहा है या पीछे।

उत्तर:-

“समझ नहीं आ रहा कि घोड़ा आगे बढ़ रहा है या वापस पीछे आ रहा है।”

“ऐसा लग रहा है, जैसे कभी घोड़ा आगे बढ़ रहा है कभी पीछे आ रहा है।”

“पता नहीं घोड़ा आगे चल रहा है या पीछे।”

14. ऐसे शब्द जो किसी अंचलयानी क्षेत्र विशेष में प्रयुक्त होते हैं उन्हें आंचलिक शब्द कहा जाता है। प्रस्तुत पाठ में से आंचलिक शब्द ढूंढकर लिखिए।

उत्तर:- चोडी, खोटी,  छड़्,  डांड़ा,  कूची-कूची,  दक्खिन, भीटे,  कंडे, थुक्पा, डंडे,  चिरी, भरिया, मठों।

15. पाठ में कागज़, अक्षर, मैदान के आगे क्रमशः मोटे, अच्छे और विशाल शब्दों का प्रयोग हुआ है। इन शब्दों से उनकी विशेषता उभरकर आती है। पाठ में से कुछ ऐसे ही शब्द और शब्द छांटिए जो किसी की विशेषता बता रहे हों।

उत्तर:-

मुख्य- रास्ता

टोंटीदार- बर्तन

विकट- डांड़ा

निर्जन- स्थान

ऊंची- चढ़ाई

श्वेत- शिखर

सर्वोच्च- स्थान

बराबर- उतराई

गरमा गरम– थूक्पा

छोटी सी- पहाड़ी

पतली पतली- चिरी बत्तियां

कड़ी- धूप

हस्तलिखित- पोथियां

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 2 ल्हासा की ओर Download in PDF

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.