NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter – 15 मेघ आए

By | January 20, 2021

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 15 मेघ आए यहाँ सरल शब्दों में दिया जा रहा है|  NCERT Hindi book for class 9 kshitij Solutions के Chapter 15 मेघ आए को आसानी से समझ में आने के लिए हमने प्रश्नों के उत्तरों को इस प्रकार लिखा है की कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक बात कही जा सके| इस पेज में आपको NCERT solutions for class 9 hindi kshitij दिया जा रहा है|

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 15 मेघ आए

प्रश्नअभ्यास

1.बादलों के आने पर प्रकृति में जिन गतिशील क्रियाओं का कवि ने चित्रित किया है, उन्हें लिखिए।

उत्तर:- बारिश रूपी मेहमान की सूचना बयार यानी हवा का नाचते गाते आकर देना। 2. मेघ रूपी मेहमान को देखने के लिए पेड़ों द्वारा गर्दन ऊंची करना। 3. हवा के झोंकों से दरवाजे व खिड़कियों का खुल जाना। 4. आंधी का चलना और धूल का उड़ते जाना। 5. हिलोरे लेती नदी को रुक कर बांकी नजर से देखना। 6. तेज़ हवाओं द्वारा पीपल का झुकना ऐसा प्रतीत होता है।मानो मेघ रूपी मेहमानों का स्वागत कर रहे हों। 7. लताओं का हवा से हिलना ऐसा जान पड़ता है मानो वे पेड़ों में छिप रही हों। 8. आकाश में बिजली का चमकना। 9. तालाब में ऐसा प्रतीत होता है जैसे वे पानी भर कर ला रहे हों। 10. झमाझम बारिश का होना

2. निम्नलिखित किसके प्रतीक हैं?

धूल, पेड़,नदी, लता, ताल

उत्तर:-

1.धूल:स्त्री

2. पेड़:गांववासी

3. नदी:नवयुवती

4. लता :पति की प्रतीक्षा करती नायिका

5. ताल:सेवक

3. लता ने बादल रूपी मेहमान को किस तरह देखा और क्यों?

उत्तर:-. प्रस्तुत काव्यांश में लता ने बादल रूपी मेहमान को व्याकुल नवविवाहिता की तरह देखा। बादल रूपी मेहमान का आगमन पूरे एक साल बाद हुआ है जिसके कारण लता उसको इस प्रकार देख रही है। लता ने बादल रूपी मेहमान को किवाड़ की ओट में छिप कर देखा। वे बादल के देर से आने से नाराज थी पर बिना उन्हें देखे रह भी नहीं पा रही थी।।

4. भाव स्पष्ट कीजिए

(). क्षमा करो गांठ खुल गई अब भरम की

(). बांकी चितवन उठा, नदी खिड़की, घूंघट सरके।

उत्तर:- ().नायिका को यह भ्रम था कि उसके प्रिय (मेघ) आएँगे या नहीं, परन्तु बादल रुपी नायक के आने से सारे भ्रम दूर हो गए। अपनी शंका पर दु:ख व्यक्त करती हुई नायिका अपने प्रिय से क्षमा याचना करती है।

(). इन पंक्तियों में कवि का कहना है कि मेघों के आने पर नदी बांकपन लिए तिरछी दृष्टि से उनकी तरफ देखती है जिससे सरक जाता है और वह शर्मा कर ठीक-ठाक थी है

5. मेघ रूपी मेहमान के आने से वातावरण में क्या परिवर्तन हुए?

उत्तर:-  कवि के अनुसार मेघ रूपी मेहमान के आने पर चारों ओर तेज ठंडी हवाएं चलने लग जाती है, धूल उड़ने लग जाती है, नदी का पानी उथल-पुथल होने लग जाता है, तालाबों में पानी भर जाता है, पेड़-पौधे झुक जाते हैं, बिजली कड़कने लगती है और बारिश के पानी से चारों और खुशियां फैल जाती है।

6. मेघों के लिए बन ठन के, संवर केआने की बात क्यों कही गई है?

उत्तर:- बहुत दिनों तक न आने के कारण गाँव में मेघ की प्रतीक्षा की जाती है |जिस प्रकार मेहमान (दामाद ) बहुत दिनों बाद आते हैं |उसी प्रकार मेघ भी बहुत  समय बाद आये हैं |अतिथि जब घर आते हैं तो संभवतः उनके देर होने के कारण उनका बन ठन कर आना ही होता है | कवि ने मेघों में सजीवता डालने के लिए मेघों के बन ठन के संवर के आने की बात कही  है |

इस पेज में आपको NCERT solutions for class 9 hindi kshitij दिया जा रहा है| हिंदी क्षितिज के दो भाग हैं | Hindi Kshitij क्षितिज भाग 1 सीबीएसई बोर्ड द्वारा class 9th के लिए निर्धारित किया गया है | इस पेज की खासियत ये है कि आप यहाँ पर ncert solutions for class 9 hindi kshitij pdf download भी कर सकते हैं| we expect that the given class 9 hindi kshitij solution will be immensely useful to you.

7. कविता में आए मानवीकरण तथा रूपक अलंकार के उदाहरण खोजकर लिखिए।

उत्तर:- मानवीकरण –

बन-ठन के, संवर के।

आगे-आगे नाचती-गाती बयार चली

पेड़ झुक झांकने लगे गरदन उचकाए

धूल भागी घाघरा उठाए

नदी ठिठुरन

बूढ़े पीपल ने आगे बढ़कर जुहार की

हरसाया ताल लाया पानी परात भर के।

रूपक अलंकार –

क्षितिज अटारी

दामिनी दमकी

बांध टूटा झर-झर मिलन के अश्रु ढरके।

8. कविता में जिन रीतिरिवाजों का मार्मिक चित्रण हुआ है, उनका वर्णन कीजिए।

उत्तर:- कविता में गांव के रीति-रिवाजों का मार्मिक चित्रण हुआ है। दामाद के अपने ससुराल आने पर सभी लोगों का उससे मिलना और उत्साहित हो जाना, जिज्ञासा से मेहमान को देखना,बुजुर्गों द्वारा मेहमान का आदर सत्कार करना, पैरों को धोने के लिए थाल में पानी लाना, नवविवाहिता औरतों का घूंघट में छुप छुप कर मेहमान को देखना, बूढ़ी स्त्रियों का मंगलकामना करना।

9. कविता में कवि ने आकाश में बादल और गांव में मेहमान (दामाद) के आने का जो रोचक वर्णन किया है, उसे लिखिए।

उत्तर:- कवि ने बड़े ही रोचक व रचनात्मक तरीके से मेघों के आने पर होने वाली घटनाओं को गांव में आए मेहमान (दामाद) के आने की गतिविधियों से जोड़ा है। गांव में मेहमान के आने पर जैसे सब लोग उनके आदर-सत्कार व मेहमान-नवाजी में जुट जाते हैं; वैसे ही आकाश में आए मेघों के साथ होता हुआ प्रतीत होता है। मेघों के आने पर ठंडी-ठंडी हवा चलने लग जाती है, लोग खिड़कियां-दरवाजे खोल देते हैं, पेड़ गांववासियों की तरह गर्दन झुका कर उनका स्वागत करते हैं, धूल स्त्रियों की तरह घाघरा उठा कर दोड़ती है, नवयुवतियों की तरह नदी ठिठकती है, गांव के बड़े-बुजुर्गों की तरह पीपल का पेड़ आगे बढ़ कर उनका स्वागत करते हैं और नायिका दरवाजे की ओट पर खड़ी होकर शर्माती है। जैसे गांव में मेहमान आते हैं तब जो देखो चीजें होती है,  वैसा ही मेघों के आने पर हो रहा है।

10. काव्यसौंदर्य लिखिए

पाहुन ज्यों आए हों गांव में शहर के

मेघ आए बड़े बनठन के संवर के

उत्तर:- काव्य-सौंदर्य

1- मानवीकरण

2- तुकबंदी

3- तत्सम शब्दों का प्रयोग

4- अनुप्रास अलंकार

5- उत्प्रेक्षा अलंकार

रचना और अभिव्यक्ति

11. वर्षा के आने पर अपने आसपास के वातावरण में हुए परिवर्तनों को ध्यान से देखकर एक अनुच्छेद में लिखिए।

उत्तर:- वर्षा के आने पर चारों और खुशी की लहर दौड़ जाती है सड़कों पर पानी भर जाता है और कीचड़ हो जाता है। सब कुछ भूल कर साफ हो जाता है। जिनको बारिश में नहाना अच्छा लगता है वह बारिश में नहाकर उसका लुफ्त उठाते हैं। बेजान व मुरझाए हुए पेड़-पौधें खिल जाते हैं और बच्चे पानी में खेलते हैं। इसी प्रकार चारों और खुशनुमा माहौल बन जाता है।

12.कवि ने पीपल को ही बड़ा बुज़ुर्ग क्यों कहां है? पता लगाइए।

उत्तर:- पीपल के वृक्ष की आयु अन्य सभी वृक्षों से अधिक होती है। अक्सर ऐसा देखा गया है कि गाँवों में पीपल के वृक्ष को पूज्यनीय माना जाता है तथा इसकी पूजा भी की जाती है। सम्भवत: इन्हीं कारणों से कवि ने पीपल को ही बड़ा बुज़ुर्ग कहा है।

13. कविता में मेघ को पाहुनके रूप में चित्रित किया गया है। हमारे यहां अतिथि (दामाद) को विशेष महत्व प्राप्त है, लेकिन आज इस परंपरा में परिवर्तन आया है। आपको इसके क्या कारण नजर आते हैं, लिखिए।

उत्तर:- आजकल मेहमानों की उतना महत्व नहीं रह गया है जितना पहले हुआ करता था। इसका एक कारण यह भी है कि पहले लोग संयुक्त परिवार में रहते थे और बड़े बूढ़ों का आदर-सम्मान सर्वोपरि था, लेकिन अब लोग छोटे परिवारों में रहते हैं इसलिए उन्हें पुराने संस्कारों व मूल्यों का इतना ज्ञान नहीं है; और आजकल लोग स्वार्थी व आत्म केंद्रित हो गए हैं।

भाषाअध्ययन

14. कविता में आए मुहावरों को छांटकर अपने वाक्यों में प्रयुक्त कीजिए।

उत्तर:-

बन-ठन कर :आजकल लोग शादियों में बहुत ज्यादा बन-ठन कर जाते हैं।

सुधि लेना : परीक्षा का समय निकट आने पर अब राजू ने अपनी पढ़ाई  की सुध ली |

गांठ खुलना : सही संबंधो के लिए भ्रम की गाँठ खुलना सही होता है |

बांध टूटना : जब उसने दो दिन तक मेरे फ़ोन का जवाब नहीं दिया तो मेरे सब्र का बांध टूट चुका था।

15. कविता में प्रयुक्त आंचलिक शब्दों की सूची बनाइए।

उत्तर:- कविता में प्रयुक्त आंचलिक शब्द –

पाहुन, घाघरा, बांकी चितवन, जुहार, बाद, सुधि, लीन्हीं, अकुलाई, किवार, हरसाया व अटारी।

16. मेघ आए कविता की भाषा सरल और सहज हैउदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए।

उत्तर:-

1- मेघ आए बड़े बन-ठन के संवर के

2- दरवाजे-खिड़कियां खुलने लगीं

3- पेड़ झुक झांकने लगे

4- आंधी चली

5- नदी ठिठकी

6- क्षमा करो गांठ खुल गई अब भरम की, आदि।

उपयुक्त वाक्यों से वाक्यों से हमें पता चलता है कि प्रस्तुत कविता बहुत ही सरल व सहज भाषा में लिखी गई है, क्योंकि उपयुक्त सभी वाक्य हम रोजमर्रा की जिंदगी में प्रयोग करते हैं।

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitiz Chapter 15 मेघ आए  Download in PDF

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.