NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter – 2 जॉर्ज पंचम की नाक

By | February 15, 2021

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 2 जॉर्ज पंचम की नाक यहाँ सरल शब्दों में दिया जा रहा है|  NCERT Hindi book for class 10 Kritika Solutions के Chapter 2 जॉर्ज पंचम की नाक  को आसानी से समझ में आने के लिए हमने प्रश्नों के उत्तरों को इस प्रकार लिखा है की कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक बात कही जा सके| इस पेज में आपको NCERT solutions for class 10 hindi Kritika

दिया जा रहा है|

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter- 2 जॉर्ज पंचम की नाक

प्रश्नअभ्यास

प्रश्न 1.सरकारी तंत्र में जॉर्ज पंचम की नाक लगाने को लेकर जो चिंता या बदहवासी दिखाई देती है वह उनकी किस मानसिकता को दर्शाती है।

उत्तर:सरकारी तंत्र के आलस्य का यहाँ पर वर्णन किया गया है। सरकारी तंत्र तभी होश में आता है जब बात गंभीरता का रूप धारण कर लेती है। वह अपने कर्तव्य को सही ढ़ग से न निभाते हुए मीटिग के हवाले समस्या को छोड़ देते हैं। अपनी ज़िम्मदारी को भली−भांति नहीं निभाते व ज़िम्मेदारी दूसरे विभाग पर डालते रहते हैं जिससे समस्या ज्यों की त्यों बनी रहती है। सलाह−मशवरा तो उचे पैमाने पर करने की कोशिश करते हैं पर बुद्धि के मामले पर समस्या को सुलझा नहीं पाते। वे अपनी समस्याओं का हल बाहर ढूँढने के स्थान पर जंग लगी फाइलों का सहारा लेते हैं परन्तु इन फाइलों की इतनी बेकदरी होती है कि वो भी बर्बाद हो जाते हैं।

प्रश्न 2.रानी एलिजाबेथ के दर्जी की परेशानी का क्या कारण था? उसकी परेशानी को आप किस तरह तर्कसंगत ठहराएँगे?

उत्तर: रानी एलिजाबेथ साम्राज्ञी थी, कोई छोटी हस्ती नहीं थी। दरजी पर रानी की वेशभूषा की जिम्मेदारी थी। उसे ही तय करना था कि रानी हिन्दुस्तान, पाकिस्तान और नेपाल के दौरे पर कब कौन-सी ड्रेस पहनेंगी। अत: उसका परेशान होना बिल्कुल तर्कसंगत है।

प्रश्न 3.‘और देखते ही देखते नयी दिल्ली का काया पलट होने लगा’–नयी दिल्ली के काया पलट के लिए क्याक्या प्रयत्न किए गए होंगे?

उत्तर: दिल्ली की काया पलटने के लिए पर्यटक स्थलों का उद्धार किया गया होगा। दिल्ली की खस्ता हो चुकी सड़कों का पुर्नउद्धार किया गया होगा, पूरे दिल्ली शहर में साफ सफाई के लिए विशेष योजनाएँ तैयार की गई होगी। उन दिनों पानी या बिजली की समस्याएँ ना उत्पन्न हो उसके लिए कारगर कार्य किए गए होंगे। आंतकवादी घटनाएँ या फिर इंग्लैंड विरोधी कार्यवाही या धरने न हो उसके लिए सुरक्षा के पूरे इंतजाम किए गए होंगे

प्रश्न 4.आज की पत्रकारिता में चर्चित हस्तियों के पहनावे और खानपान संबंधी आदतों आदि के वर्णन का दौर चल पड़ा हैं

() इस प्रकार की पत्रकारिता के बारे में आपके क्या विचार हैं?

() इस तरह की पत्रकारिता आम जनता विशेषकर युवा पीढ़ी पर क्या प्रभाव डालती है?

उत्तर🙁)इस प्रकार की पत्रकारिता मनोरंजन-पत्रकारिता के अंतर्गत आती है। हर देश का फैशन अपने समय के महत्त्वपूर्ण नायक-नायिकाओं की वेशभूषा को देखकर चलता है। अतः मनोरंजन-पत्रकारिता का चर्चित हस्तियों के खान-पान और पहनावे को लेकर बातें करना स्वाभाविक है। इन बातों को सीमित महत्त्व देना चाहिए। इन्हें समाचार-पत्र के भीतरी पृष्ठों पर मनोरंजन-परिशिष्ट के अंतर्गत ही स्थान मिलना चाहिए। इन्हें राष्ट्रीय समाचार-पत्रों की पहली खबर बनाना आवश्यकता से अधिक महत्त्व देना है। इस प्रवृत्ति पर रोक लगनी चाहिए।

() इस तरह की पत्रकारिता आम जनता को रहन-सहन के तौर-तरीकों और फैशन आदि के प्रति जागरूक करती है। बहुत से युवक-युवतियाँ पढ़ाई-लिखाई से अधिक फैशन में रुचि लेने लगते हैं। वे काम की बातों से अधिक ध्यान ऊपरी दिखावे पर देने लगते हैं।

प्रश्न 5.जॉर्ज पंचम की लाट की नाक को पुनः लगाने के लिए मूर्तिकार ने क्याक्या यत्न किए?

उत्तर:जॉर्ज पंचम की लाट की नाक को पुनः लगाने के लिए मूर्तिकार ने कई प्रयास किए; जैसे

जॉर्ज पंचम की लाट की नाक को लगाने के लिए मूर्तिकार ने अनेक प्रयत्न किए। उसने सबसे पहले उस पत्थर को खोजने का प्रयत्न किया जिससे वह मूर्ति बनी थी। इसके लिए पहले उसने सरकारी फाइलें ढूँढवाईं। फिर भारत के सभी पहाड़ों और पत्थर की खानों का दौरा किया। फिर भारत के सभी महापुरुषों की मूर्तियों का निरीक्षण करने के लिए पूरे देश का दौरा किया। अंत में जीवित व्यक्ति की नाक काटकर जॉर्ज पंचम की मूर्ति पर लगा दी।

प्रश्न 6.प्रस्तुत कहानी में जगहजगह कुछ ऐसे कथन आए हैं जो मौजूदा व्यवस्था पर करारी चोट करते हैं। उदाहरण के लिए ‘फाइलें सब कुछ हजम कर चुकी है।’ ‘सब हुक्कामों ने एक दूसरे की तरफ़ ताका।’ पाठ में आए ऐसे अन्य कथन छाँटकर लिखिए।

उत्तर:ऐसे अन्य व्यंग्यात्मक कथन इस प्रकार हैं

मौजूदा व्यवस्था पर चोट करने वाले कथन निम्नलिखित हैं- 1. सभापति ने तैश में आकर कहा, “लानत है आपकी अकल पर। विदेशों की सारी चीज़ें हम अपना चुके हैं- दिल-दिमाग तौर तरीके और रहन-सहन, जब हिन्दुस्तान में बाल डांस तक मिल जाता है तो पत्थर क्यों नहीं मिल सकता?” 2. मूर्तिकार ने अपनी नई योजना पेश की “चूँकि नाक लगाना एकदम ज़रूरी है, इसलिए मेरी राय है कि चालीस करोड़ में से कोई एक ज़िदा नाक काटकर लगा दी जाए…” 3. किसी ने किसी से नहीं कहा, किसी ने किसी को नहीं देखा पर सड़के जवान हो गई, बुढ़ापे की धूल साफ़ हो गई।

प्रश्न 7.नाक मानसम्मान व प्रतिष्ठा का द्योतक है। यह बात पूरी व्यंग्य रचना में किस तरह उभरकर आई है? लिखिए।

उत्तर: यह पाठ व्यंग्य रचना है। नाक व्यक्ति की प्रतिष्ठा का प्रतीक होता है। जॉर्ज पंचम की नाक कट जाने का अर्थ उसकी प्रतिष्ठा का धूल में मिल जाना है। यह दोनों देशों के लिए परेशानी का सबब बन गया। ब्रिटिश साम्राज्य की प्रतिष्ठा और भारत पर खतरे का प्रतीक बन गया। पाठ में यह सत्य भी उद्घाटित हुआ है कि भारत के नेताओं, शहीदों, बच्चों सभी की प्रतिष्ठा हमारे लिए विदेशियों से अधिक है। उन्होंने हमारे देश पर शासन किया परन्तु आत्मा पर भारत माता का शासन था. है और हमेशा रहेगा ।

प्रश्न 8.जॉर्ज पंचम की लाट पर किसी भी भारतीय नेता, यहाँ तक कि भारतीय बच्चे की नाक फिट न होने की बात से लेखक किस ओर संकेत करना चाहता है।

उत्तर: यहाँ लेखक ने भारतीय समाज के महान नेताओं व साहसी बालकों के प्रति अपना प्रेम प्रस्तुत किया है। हमारे समाज में यह विशेष आदरणीय लोग हैं। इनका स्थान जॉर्ज पंचम से सहस्त्रों गुणा बड़ा है जॉर्ज पंचम ने भारत को कुछ नहीं दिया परन्तु इन्होनें अपने बलिदान व त्याग से भारत को एक नीवं दी उसे आज़ादी दी है। इसलिए इनकी नाक जॉर्ज पंचम की नाक से सहस्त्रों गुणा ऊँची है

इस पेज में आपको NCERT solutions for class 10 hindi Kritika दिया जा रहा है| Hindi Kritika सीबीएसई बोर्ड द्वारा class 10th के लिए निर्धारित किया गया है | इस पेज की खासियत ये है कि आप यहाँ पर ncert solutions for class 10 hindi Kritika pdf download भी कर सकते हैं| we expect that the given class 10 hindi Kritika solution will be immensely useful to you.

प्रश्न 9. अखबारों ने जिंदा नाक लगने की खबर को किस तरह से प्रस्तुत किया?

उत्तर:अखबारों ने जिंदा नाक लगने की खबर को प्रस्तुत करते हुए लिखा कि मूर्तिकार को जब जॉर्ज पंचम की लाट के लिए उपयुक्त पत्थर नहीं मिला तथा उस लाट के अनुरूप नाक न मिल सकी तो उसने लाट पर जिंदा नाक लगाने का फैसला कर लिया। यह बात देश की जनता नहीं जानती थी। सब तैयारियाँ अंदर ही अंदर चल रही थीं। लाट पर किसी जीवित भारतीय की नाक लगाने के सरकारी कदम का अखबार विरोध कर रहे थे। ऐसे में अखबारों ने पत्थर में जिंदा नाक लगने की खबर को बिना किसी दिखावे-प्रदर्शन के चुपचाप तथा शांति एवं सादगी के साथ प्रस्तुत किया। अखबारों में लिखा था कि ‘जॉर्ज पंचम की जिंदा नाक लगाई गई है…यानी ऐसी नाक जो पत्थर की नहीं लगती है।

प्रश्न 10.“नयी दिल्ली में सब था … सिर्फ नाक नहीं थी।” इस कथन के माध्यम से लेखक क्या कहना चाहता है ?

उत्तर: सभी अखबार उस दिन चुप थे क्योंकि सरकारी तंत्र द्वारा अपनाया गया रास्ता यह दर्शा रहा था कि वे अंग्रेजों से आजाद हो गए हैं, लेकिन उनकी सोच अभी भी अंग्रेजों की गुलाम है। उन्होंने अंग्रेजों की गुलामी इस कदर स्वीकार कर ली थी कि उनके लिए एक अंग्रेजी अफसर की मूर्ति की नाक एक जीवित हिंदुस्तानी व्यक्ति की नाक से अधिक महत्वपूर्ण थी। सभी अखबारों ने इस पर मौन धारण कर लिया क्योंकि वे इस खबर को छाप कर पूरी दुनिया के सामने अपनी गुलाम सोच का बखान नहीं करना चाहते थे। उन्हें अपने ही देश के सरकारी तंत्र पर शर्मिंदगी महसूस हो रही थी।

प्रश्न 11.जॉर्ज पंचम की नाक लगने वाली खबर के दिन अखबार चुप क्यों थे?

उत्तर: किसी भी देश का समाचार पत्र वहाँ घट रही घटनाओं का आइना तथा लोकतंत्र के सच्चे प्रहरी होते हैं। अंग्रेजों के अत्याचार से मुक्ति दिलाने और उन्हें देश से बाहर करने में समाचारपत्रों ने जोशीले लेखों, भाषणों और विभिन्न घटनाओं के माध्यम से लोगों को उत्साहित और प्रेरित किया था और लोगों की रगों में बहते खून को लावे में बदल दिया था। वही समाचार पत्र उस घटना को कैसे छापते जिसमें देश की प्रतिष्ठा और मान-सम्मान को मिट्टी में मिला दिया गया हो। जॉर्ज पंचम की लाट पर जिंदा नाक लगाने के कुकृत्य को प्रकाशित करने के बजाए समाचार पत्रों ने चुप रहना ही बेहतर समझा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.